Skip to main content

मैं ही क्यों .........!!!!!

मैं ही क्यों सबके सामने झुकू...

मैं ही क्यों हर बार अपनी जिम्मेदारी निभाऊ......

मैं ही क्यों हर बात के लिए खुद को  कोसु.. 

मैं ही क्यों हर बार त्याग करू...




क्या बेटी का मन नहीं होता....

अपनी इच्छा को सबके सामने रखने का..

या फिर उसका हक़ नहीं होता...

अपने सापको को पूरा करने का....

मैं ही क्यों... अपनी इच्छाओ का गला घोटू..

मैं ही क्यों... अपने सपनो को पूरा होने से रोकू...



मेरा कुछ बोलना लोग बगावत समझते है...

अगर कुछ मांगू तो खिलाफत समझते है...

क्यों मुझे ही समाज के नाम पे दबाया जाता है...

क्यों मेरी भावनाओ को मिटाया जाता है.....

मैं ही क्यों खुद को समाज की भट्टी में झोकू..

मैं ही क्यों अपनी भावनाओ को रोंदू.....

मैं ही क्यों .........!!!!!


Stop Domestic Violence Against Women 


Comments

  1. Mere Bina tu jeene ki kalpana Kia karega,
    Aey Admi har sapna tera mai hi to bunnungi,
    Marna kisi ko hai sambhaw tere lie bhale hi,
    par har saksh ki jannni to ek aurat hi rahigi,

    pahchan le tu mujko ajj hi vajuud ko mere,
    varna teri pahuchai har chot ki pukar,
    naye vinnas ka path banegi,

    Me tujpar Haq nahi jatana chahti hu magar,
    par hakiquat to yahi hai,
    tere bina agar me adhuri hu to,
    to tere lie bhi me bhi to jaroori hu.......



    HI FRIEND...I AM A MALE BUT I RANDOMLY GO THROUGH YOU BLOG...AND I GAZED MY EYES ON THAT POETRY ...THATS NICE ONE WHICH U WRITE..AND I THEN MY FINGER LET START DOING JUGGLING TO PEN DOWN MY THOUGHTS ON YOUR BLOG...AND I DID A SMALL ATTEMPT...

    ReplyDelete
  2. एक सम्पूर्ण पोस्ट और रचना!
    यही विशे्षता तो आपकी अलग से पहचान बनाती है!

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

निश्चय..!!

प्रारंभिक भोर में लिया दृढ़ निश्चय,

शंध्या आते विफलता की चौखट लांघ लेता है.!!

प्रतिबिम्ब सा मन ओज से भरा,

परिस्तिथियों से तल्लीन खुद को अधीन बना लेता है। !!

दुविधा...!!!!

मन ऐसो मेलन भरा, ते तन सुच्चो कैसो कहाय ...!
जे सोचु हरी ते पाप हरे, ते पूजन न सुहाय ...!!
ऐसो दुविधा सांस लगी, न निति कोई सुझाय ...!
तर जाऊ मैं पाप ते, या खुद ने देउ डुबोय ....!!

एक कदम और चलते है ।

आ चल एक कदम और चलते है ।  दूर डगर नापने की बात करते है ॥  फूलो को हाथो में समेट,  पानी से आकाश की रंगोली भरते है।। 
एक कदम और चलते है ।।
आ मिल शाम को भोर बनाये।  आ मिल जोर से शौर मचाये ॥  सुरों को धुनों की मिटटी से मलते है , आ चल एक कदम और चलते है ।।
.....................  साथ चलते है ॥